इन्टरनेट क्या हैं | इंटरनेट के लाभ और नुकसान क्या हैं...

इन्टरनेट क्या हैं के बारे में सही शब्दों में बताये तो इसका पूरा नाम इंटरनेशनल नेटवर्क (International Network) होता है. जिसको 1950 में विंट कर्फ़ ने शुरू किया था. जिन्हें इन्टरनेट का पिता कहा जाता हैं. इंटरनेट “नेटवर्को का नेटवर्क” होता है, जिसमे लाखों निजी और सार्वजनिक, लोकल से ग्लोबल स्कोप वाले नेटवर्क होते हैं.


इंटरनेट, communication का एक महत्वपूर्ण एवं दक्ष माध्यम हैं. जिसे काफी लोकप्रियता हासिल की है. इंटरनेट के सहारे से लाखों व्यक्ति सूचनाओं, विचारों, ध्वनी, सिदियो क्लिप्स और नजाने क्या – क्या को कंप्यूटरों के जरिए पूरी दुनिया में एक – दुसरे के साथ शेयर कर सकते हैं. यह अलग – अलग आकारों एवं प्रकारों के नेटवर्को से मिलकर न होता हैं.

इन्टरनेट क्या हैं

इंटरनेट का विकास

इंटरनेट का वर्तमान विकसित रूप 1960 से अब तक लगातार नेटवर्किंग के विकास का परिणाम है. 50 से 60 दशक में कंप्यूटरों को आपस में जोड़ने के लक्ष से अमेरिका के रक्षा विभाग ने DARPA (Defense Advanced Research Projecs Agency) प्रोजेक्ट की स्थापना की जिसका मुख्य लक्ष्य तकनीकी उचईयो को हासिल करना था. DARPA को शुरू में ARPA के संक्षिप्त नाम से जाना गया. अक्टूबर, 1962 में DARPA औपचारिक रूप से कंप्यूटर नेटवर्किंग की रिसर्च में जुट गई.

इस नेटवर्क प्रोजेक्ट के अन्तर्गत ARPANET (Advanced Research Projects Agency Network) का पहला लिंक 21 नवम्बर, 1969 को कैलिफोर्निया विश्वविधालय एवं स्टैण्डर्ड रिसर्च इंस्टीट्युट के मध्य स्थापित हुआ. 5 दिसम्बर, 1969 तक इस नेटवर्क के चार नोड स्थापित किया गया तथा 1972 में इस प्रोजेक्ट का अधिकारिक नाम ALOTTANET बदलकर ARPANET कर दिया गया. ARPNET का सम्पूर्ण विकास RFC (Request For comment Process) के उपर केन्द्रित था, जिसका उपयोग आज भी इंटरनेट पप्रोटोकॉल के में होता हैं. इसमे उपयोग होने वाले हॉस्ट सॉफ्टवेर के RFCI हैं जिसे कैलिफोर्निया विश्वविधालय के स्टीव फ्रोकर के व्दारा अप्रैल, 1969 में लिखा गया. ARPANET का अमेरीका से बाहर पहला नेटवर्क संयोजन NORSAR था जो अमेरीका और नॉर्वे के बीच 1973 में स्थापित हुआ था. 1984 से लेकर 1988 तक CERN ने TCP/IP को अपने सभी मुख्य कंप्यूटरों और वर्कस्टेशनो में इनस्टॉल कर लिया था. एशिया में इंटरनेट का शुरुआत 1980 के बाद हुआ.

इंटरनेट के लाभ

देखा जाये तो हमारे जीवन में इंटरनेट के बहुत सारे लाभ हैं. इस में से कुछ लाभ के बारे में हम आप को बताने वाले हैं -      

·  इंटरनेट हमें दुसरे व्यक्तियों से आसानी सम्पर्क बनाने की सुबिधा देता हैं l इससे हम दुसरे व्यक्ति के साथ “ कभी - भी और कही – भी ” कर सकते है.

·   इंटरनेट के सहारे आस – पास ही नहीं, दुनिया के किसी भी कोने में सम्पर्क स्थापित किया जा सकता है.

·  हम इंटरनेट पर कितने भी बड़े और कितने भी WORD  का डॉक्यूमेंट पब्लिश कर सकते है, जिससे की हमारे पेपर का बचत भी होता हैं.

·  इंटरनेट कंपनियों के लिए कीमती साधन हैं. जिस पर वह व्यापार का विज्ञापन,लेन -देन और बहुत कुछ कर सकते हैं. इससे कंपनियों का इनकम भी बढ़ जाता हैं.

इंटरनेट के नुकसान 

जैसे इंटरनेट के कुछ फायदे हैं , वैसे ही इंटरनेट के कुछ हानियाँ भी हैं और इसकी हानियाँ निम्नलिखित हैं चलिए इसे समझते हैं.

·   इंटरनेट के ही वजह से कंप्यूटर या मोबाइल में ज्यादा viruse आता हैं. जिससे कंप्यूटर या मोबाइल हंग्स हो जाता हैं. इसी कारण इंटरनेट वायरस के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार हैं.

·   आपको तो पता ही हैं की आजके समय में साइबर क्राइम कितना बढ़ गया है, अब आप पूछोगे की मैं ऐसा क्यों कह रहा हूँ मैं ये इसलिए कह रहा हूँ की इंटरनेट पर डाले गये सूचनाओ को आसानी से चुराया जा सकता हैं.

निष्कर्ष

आसा करता हूँ की आपको इंटरनेट के बारे में काफी कुछ समझ में आ गया होगा. आपको पता लग गया होगा की जितना इंटरनेट का फायदा है उतना ही इंटरनेट से नुकसान भी हैं और आपको ये भी पता चल गया होगा की इंटरनेट का विकास कब हुआ और बहुत सारे प्रश्नों का जबाब भी मिलगया होगा. तो दोस्तों मैं आपसे इतना चाहता हूँ की आप इस पोस्ट को जितना हो सकते उतना शेयर करिये जिससे की दुसरो को भी इंटरनेट के बारे में पता चल सके.

Post a Comment

0 Comments